Install - pawari dictionary app  
Install - vidyarthi sanskrit dictionary app  
s

स्तूप क्या होते हैं? | स्तूपों के प्रमुख भाग एवं इनका वर्गीकरण

(511)     6132

स्तूपों का बौद्ध धर्म में विशेष महत्व है।

s

महात्मा बुद्ध कौन थे? उन्हें किस प्रकार ज्ञान प्राप्त हुआ?

(510)     1916

महात्मा बुद्ध (गौतम बुद्ध) बौद्ध धर्म के संस्थापक थे।

s

भारत के प्रमुख जैन मन्दिर

(507)     805

इस लेख में जैन मन्दिरों के बारे में जानकारी दी गई है।

s

जैन धर्म के 24 तीर्थंकर कौन-कौन से थे?

(506)     1156

वर्धमान महावीर, जैन धर्म के चौबीसवें तीर्थंकर थे।

s

जैन धर्म की 'संथारा प्रथा' क्या है?

(504)     1035

सल्लेखना जैन दर्शन से सम्बन्धित एक महत्वपूर्ण शब्द है।

s

आगम ग्रन्थ क्या होते हैं? | जैन धर्म के प्रमुख ग्रन्थ

(503)     3114

जैन साहित्य को 'आगम' कहते हैं।

s

भारत में जैन धर्म की उत्पत्ति | महावीर स्वामी कौन थे?

(501)     2022

जैन अनुश्रुतियों एवं परम्पराओं के अनुसार जैन धर्म में कुल 24 तीर्थंकर हुए।

s

प्राचीन भारत में नवीन धर्मों (जैन और बौद्ध) की उत्पत्ति के कारण

(499)     1161

प्राचीन काल में छठी शताब्दी ईसा पूर्व के दौरान भारत में नवीन धर्मों की उत्पत्ति हुई।

s

यूनानी सिकन्दर कौन था? | प्राचीन भारत पर सिकन्दर के आक्रमण

(497)     1008

सिकन्दर ने सर्वप्रथम 326 ईसा पूर्व को भारत पर आक्रमण किया था।

s

प्राचीन ईरानी (हखामनी) साम्राज्य के प्रमुख शासक– साइरस, केम्बिसीज, डेरियस, ज़रक्सीज, अर्तज़रक्सीज

(496)     1334

साइरस द्वितीय ने छठी शताब्दी ईसा पूर्व के मध्य में ईरान में हखामनी साम्राज्य की स्थापना की थी।

s

भारत पर आक्रमण करने वाला पहला विदेशी देश– ईरान

(495)     1585

भारत पर सर्वप्रथम विदेशी आक्रमण ईरान देश के हखामनी वंश के राजाओं ने किया था।

s

मगध साम्राज्य के राजा– शिशुनाग और कालाशोक

(493)     970

इस लेख में मगध के शिशुनाग वंश के विषय में जानकारी दी गई है।

s

प्राचीन भारत के गणतंत्र क्या थे? | महात्मा बुद्ध के समय के 10 गणतंत्र

(492)     1559

प्राचीन भारत में गणतंत्र कुछ कुलीन लोगों का समूह होता था।

s

प्राचीन भारत के 16 महाजनपद कौन-कौन से थे?

(488)     1499

इस लेख में प्राचीन भारत के 16 महाजनपदों के विषय में जानकारी दी गई है।

s

वर्णाश्रम व्यवस्था क्या थी? | ब्राह्मण, क्षत्रिय वैश्य, शूद्र

(487)     5648

भारत में ऋग्वैदिक काल में समाज के संचालन के लिए 'वर्ण व्यवस्था' शुरू की गई थी।

s

वैदिक काल के देवी एवं देवता– इन्द्र, अग्नि, वरूण, सवितृ, सोम, धौस, सरस्वती, पूषन, रूद्र, अरण्यानी

(484)     5403

ऋग्वैदिक काल के आर्य लोग धार्मिक प्रवृत्ति के थे।

s

गाय को सबसे पवित्र पशु क्यों माना जाता है?

(483)     1508

वेदों के समय में गाय को सबसे पवित्र पशु माना जाता था। यही सर्वोचित परम्परा वर्तमान में भी जारी है।

s

सिन्धु घाटी सभ्यता और वैदिक सभ्यता में अन्तर

(482)     3427

सिन्धु घाटी सभ्यता और वैदिक सभ्यता दोनों ही प्राचीन भारत की महत्वपूर्ण सभ्यताएँ हैं।

s

कबीला किसे कहते हैं? | कबीलाई संगठन– कुल, ग्राम, विश, जन और राष्ट्र

(479)     8228

ऋग्वैदिक काल में समाज का प्रशासन कबीलाई संगठन पर आधारित था।

s

ऋग्वैदिक समाज में वर्ण व्यवस्था, स्त्रियों की स्थिति तथा आर्यों के भोजन व वस्त्र

(477)     1696

ऋग्वैदिक समाज मूल रूप से पितृसत्तात्मक था। समाज की सबसे छोटी इकाई परिवार थी।

s

ऋग्वैदिक काल के क्षेत्र– ब्रह्मवर्त्त, आर्यावर्त और सप्त सैंधव क्षेत्र

(476)     2052

सरस्वती और दृशद्वती नदियों के मध्य का प्रदेश ब्रह्मवर्त कहलाता था।

s

वैदिक सभ्यता (आर्य सभ्यता) क्या थी? | ऋग्वैदिक काल और उत्तर वैदिक काल

(474)     1379

वेदों से हमें वैदिक सभ्यता के विषय में जानकारी प्राप्त होती है।

s

सिन्धु (हड़प्पा) सभ्यता का पतन कैसे हुआ?

(471)     1084

हड़प्पा सभ्यता (सिन्धु सभ्यता) अपने अन्तिम समय में पतन (विनाश) की ओर उन्मुख थी।

s

हड़प्पा (सिन्धु) सभ्यता के लोगों का धर्म, देवी-देवता एवं पूजा-पाठ

(470)     4185

हड़प्पा सभ्यता (सिन्धु सभ्यता) के लोगों के धार्मिक दृष्टिकोण का आधार इहलौकिक और व्यावहारिक था।

s

सिन्धु सभ्यता (हड़प्पा सभ्यता) में कृषि, पशुपालन एवं व्यापार

(468)     9628

सिन्धु सभ्यता (हड़प्पा सभ्यता) के काल में कृषि तथा व्यापार दोनों ही उन्नत थे।

s

हड़प्पा काल में शासन कैसे किया जाता था? | हड़प्पा (सिन्धु) सभ्यता की लिपि

(466)     2606

हड़प्पा सभ्यता की शासन व्यवस्था जनतंत्रात्मक थी। इसमें धर्म को विशेष महत्व दिया गया था।

s

हड़प्पा सभ्यता (सिन्धु सभ्यता) का समाज एवं संस्कृति

(465)     2588

हड़प्पा सभ्यता के समाज की इकाई परम्परा के अनुसार परिवार थी।

s

सिन्धु सभ्यता के स्थलों से कौन-कौन सी वस्तुएँ प्राप्त हुईं

(462)     2480

सिंधु सभ्यता के प्रमुख स्थलों जैसे– हड़प्पा, मोहनजोदड़ो, चन्हूदड़ो, कालीबंगा आदि से विभिन्न पुरावस्तुएँ प्राप्त हुई हैं।

s

सिन्धु सभ्यता के प्रमुख स्थल– राखीगढ़ी, कालीबंगा, बनावली, धौलावीरा

(460)     2015

इस लेख में सिन्धु सभ्यता के प्रमुख स्थलों में से राखीगढ़ी, कालीबंगा, बनावली और धौलावीरा का विवरण दिया गया है।

s

सिन्धु सभ्यता के स्थल– हड़प्पा, मोहनजोदड़ो, चन्हूदड़ो, लोथल

(459)     1898

इस लेख में सिन्धु सभ्यता के प्रमुख स्थलों में से हड़प्पा, मोहनजोदड़ो, चन्हूदड़ो और लोथल का विवरण दिया गया है।

s

सिन्धु (हड़प्पा) सभ्यता की नगर योजना और नगरों की विशेषताएँ

(456)     6256

सिन्धु सभ्यता या हड़प्पा सभ्यता एक नगरीय सभ्यता थी। यह अपनी समकालीन अन्य सभ्यताओं की तुलना में अधिक विकसित थी।

s

सिंधु घाटी सभ्यता– परिचय, खोज, नामकरण, काल निर्धारण एवं भौगोलिक विस्तार

(454)     9225

सिंधु सभ्यता वर्षों पुरानी सभ्यता है। बीसवीं सदी के द्वितीय दशक तक इस सभ्यता के विषय में कोई जानकारी नहीं थी।

s

प्राचीन काल में भारत आने वाले चीनी यात्री– फाहियान, ह्वेनसांग, इत्सिंग

(452)     4594

भारत का प्राचीन इतिहास जानने के स्रोतों में चीनी यात्रियों के यात्रा-वृत्तान्तों का महत्वपूर्ण स्थान है।

s

प्राचीन भारत के बारे में यूनान और रोम के लेखकों ने क्या लिखा?

(451)     2008

इस लेख में प्राचीन काल में यूनान और रोम से भारत आए विदेशी लेखकों के बारे में जानकारी दी गई है।

s

प्राचीन भारत के राजाओं के जीवन पर लिखी गई पुस्तकें

(449)     1293

इस लेख में प्राचीन भारत के राजाओं के जीवन पर लिखी गई पुस्तकों के बारे में जानकारी दी गई है।

s

प्राचीन भारत का इतिहास जानने के साहित्यिक स्त्रोत– बौद्ध साहित्य और जैन साहित्य

(448)     5728

भारतीय इतिहास के साहित्यिक स्रोतों में बौद्ध साहित्य के ग्रंथों का महत्वपूर्ण स्थान है।

s

प्राचीन भारत के ऐतिहासिक स्त्रोत– ब्राह्मण ग्रंथ, वेदांग, सूत्र, महाकाव्य, पुराण

(446)     1586

वेदों को भली-भाँति समझने के लिए वेदांगों की रचना की गई थी।

s

प्राचीन भारत के पुरातात्विक स्त्रोत 'वेद'– ऋग्वेद, यजुर्वेद, सामवेद, अथर्ववेद

(444)     1465

वेद भारत की प्राचीन संस्कृति के महत्वपूर्ण स्रोत हैं। वेदों की कुल संख्या चार है।

s

प्राचीन भारत के पुरातात्विक स्त्रोत– अभिलेख, स्मारक, भवन, सिक्के, मूर्तियाँ, चित्रकला, मुहरें

(441)     7787

इस लेख प्राचीन भारत के अध्ययन के पुरातात्विक स्त्रोतों के बारे में जानकारी दी गई है।

s

अभिलेख क्या होते हैं? | प्राचीन भारत के प्रमुख अभिलेख

(438)     5138

भारत के सन्दर्भ में सबसे प्राचीन अभिलेख सम्राट अशोक के हैं। ये अभिलेख लगभग 300 ईसा पूर्व के हैं।

s

मगध का नन्द वंश– महापद्मनन्द, धनानन्द

(426)     1267

नन्द वंश का संस्थापक महापद्मनन्द था।

s

मगध का हर्यक वंश– बिम्बिसार, अजातशत्रु, उदायिन, नागदशक

(425)     2724

बिम्बिसार मगध का प्रथम शक्तिशाली शासक था।

s

प्राचीन भारतीय इतिहास जानने के स्त्रोत | पुरातात्विक स्त्रोत और साहित्यिक स्त्रोत || Sources To Know Ancient Indian History

(421)     2327

महत्वपूर्ण तथ्यों को चुनकर इतिहास का पुनर्निर्माण किया जाता है। History is reconstructed by selecting important facts.

s

सम्राट हर्षवर्धन एवं उनका शासनकाल | Emperor Harshavardhana and his reign

(13)     2293

हर्ष का जन्म थानेश्वर (वर्तमान हरियाणा) में हुआ था। हर्षवर्धन के भाई राज्यवर्धन थे। उनके पिता का नाम प्रभाकरवर्धन थे।

s

आर्य समाज - प्रमुख सिद्धांत एवं कार्य | Arya Samaj - Major Principles and Functions

(10)     20806

आर्य समाज की स्थापना सन् 1875 ईस्वी में स्वामी दयानंद सरस्वती ने तत्कालीन बम्बई (वर्तमान मुम्बई) में की थी।

s

भारतीय इतिहास के गुप्त काल की प्रमुख विशेषताएँ | Salient Features of the Gupta Period of Indian History

(7)     4466

गुप्त काल को भारतीय इतिहास का 'स्वर्ण काल' माना जाता है। गुप्त काल में भारत की राजनीतिक, सामाजिक, धार्मिक, आर्थिक, साहित्य, कला सहित सभी क्षेत्रों में असीमित उन्नति हुई थी।

s

समुद्रगुप्त और नेपोलियन के गुणों की तुलना | Comparison of the qualities of Samudragupta and Napoleon

(3)     3869

इस लेख में समुद्रगुप्त और नेपोलियन के गुणों की तुलना की तुलना की गई है।

s

चक्रवर्ती सम्राट राजा भोज | Chakravarti Samrat Raja Bhoj

(1)     2964

मध्य युग के प्रमुख शासकों में चक्रवर्ती सम्राट राजा भोज का महत्वपूर्ण स्थान है। राजा भोज कलम और तलवार बाजी के धनी शासक थे।

Categories

Subcribe