s
By: RF competition   Copy   Share  (67) 

रस क्या है? || रस के स्थायी भाव || शान्त एवं वात्सल्य रस || Ras kya hai?

1317

रस क्या है?

रस शब्द की व्युत्पत्ति 'रस्यते इति रसः', अर्थात जिससे रस की अनुभूति की जाए। कविता आदि को पढ़ने, सुनने तथा नाटक पढ़ने, सुनने और देखने से जो आनन्दानुभूति होती है वह रस कहलाती है।

मनुष्य के अन्तःकरण में असंख्य भाव तरंगित होते रहते हैं। ये उचित अवसर आते ही उभर आते हैं। यदि कोई हँसी की बात कहे या विचित्र वेशभूषा दिखाई दे तो हमें हँसी आ जाती है। अपशब्द सुनते ही हमारी क्रोधाग्नि भड़क उठती है। अद्भुत क्रिया-कलाप की स्थिति हमें विस्मय में डाल देती है। कहने का आशय यह है कि, समयानुकूल मन में भाव उत्पन्न होते रहते हैं। ये मन के विकार भाव ही रस निष्पत्ति के कारक हैं।

आचार्यों ने प्रत्येक रस के लिये एक-एक स्थायी भाव माना है।
रस – स्थायी भाव
श्रृंगार – रति
हास्य – हास
करुण – शोक
वीर – उत्साह
रौद्र – क्रोध
भयानक – भय
वीभत्स – जुगुप्सा (घृणा)
अद्भुत – विस्मय
शान्त – शम, निर्वेद
वात्सल्य – वत्सल, स्नेह

इन प्रकरणों 👇 के बारे में भी जानें।
1. विराम चिन्हों का महत्व
2. पूर्ण विराम का प्रयोग कहाँ होता है || निर्देशक एवं अवतरण चिह्न के उपयोग
3. लोकोक्ति और मुहावरे में अंतर भाषा में इनकी उपयोगिता
4. प्रेरणार्थक / प्रेरणात्मक क्रिया क्या है ? इनका वाक्य में प्रयोग
5. पुनरुक्त शब्द एवं इसके प्रकार | पुनरुक्त और द्विरुक्ति शब्दों में अन्तर
6. गज़ल- एक साहित्य विधा
7. शब्द शक्ति- अभिधा शब्द शक्ति, लक्षणा शब्द शक्ति एवं व्यंजना शब्द शक्ति

शान्त रस

यहाँ निर्वेद स्थायी भाव को समझिए–
साधना मेरी अधूरी, मैं विरह में जल न पाई।
व्यर्थ बीती आयु सारी, मैं सजन की हो न पाई॥

प्रस्तुत काव्यांश में निर्वेद की व्यंजना है।

जब मानव मन सांसारिक विषय-वासनाओं से ऊबने लगता है तब उसमें विरक्ति भाव जाग्रत होने लगते हैं। मन इष्ट वस्तु के वियोगादि से अपने को धिक्कारने लगता है। फिर मन में दीनता, चिन्ता और पश्चाताप के विचार आने से निर्वेद या वैराग्य भाव जाग्रत हो जाते हैं। यह वैराग्य भाव ही शांत रस के अन्तर्गत आता है।
संसार की असारता का अनुभव होने पर हृदय में तत्वज्ञान या वैराग्य भावना जाग्रत होने पर शान्त रस निष्पन्न होता है।

'ऐसी मूढ़ता या मन की परिहरि
राम भक्ति सुरसरिता,
आस करत ओसकन की।'

उक्त पंक्तियों में प्रयुक्त शान्त रस और उसका स्थायी भाव निर्वेद को देखिए।

इन प्रकरणों 👇 के बारे में भी जानें।
1. समास के प्रकार, समास और संधि में अन्तर
2. संधि - स्वर संधि के प्रकार - दीर्घ, गुण, वृद्धि, यण और अयादि
3. वाक्य – अर्थ की दृष्टि से वाक्य के प्रकार
4. योजक चिह्न- योजक चिह्न का प्रयोग कहाँ-कहाँ, कब और कैसे होता है?
5. वाक्य रचना में पद क्रम संबंधित नियम
6. कर्त्ता क्रिया की अन्विति संबंधी वाक्यगत अशुद्धियाँ

वात्सल्य रस

शिशुओं की क्रीड़ाओं से आह्लादित जननी जनक के हृदय में आनन्द भावना की निष्पत्ति वात्सल्य रस कहलाती है। वात्सल्य रस का स्थायी भाव वत्सल है।
उदाहरण–
"बालकृष्ण-सी देख-देख जीती सूरत अनमोली। पहले दिन बंसी वाले करती सुनी तोतली बोली ॥ बंधी हुई दोनो मुट्ठी से वैभव लल्ला लाया। जग की आँख दबा चुंबन में वह चुपचाप चुराया।'

इस काव्यांश में एक मातृ हृदय की सलोनी झाँकी सरलता से देखी जा सकती है। माता का पुत्र के प्रति स्नेह भाव कितना सहज और स्वाभाविक है। काव्य से निष्पन्न यह वत्सल भाव आनन्दित वातावरण बना रहा है।

हिन्दी व्याकरण के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।।
1. 'ज' का अर्थ, द्विज का अर्थ
2. भिज्ञ और अभिज्ञ में अन्तर
3. किन्तु और परन्तु में अन्तर
4. आरंभ और प्रारंभ में अन्तर
5. सन्सार, सन्मेलन जैसे शब्द शुद्ध नहीं हैं क्यों
6. उपमेय, उपमान, साधारण धर्म, वाचक शब्द क्या है.
7. 'र' के विभिन्न रूप- रकार, ऋकार, रेफ
8. सर्वनाम और उसके प्रकार

आशा है, उपरोक्त जानकारी परीक्षार्थियों / विद्यार्थियों के लिए ज्ञानवर्धक एवं परीक्षापयोगी होगी।
अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए गए वीडियो देखें।
धन्यवाद।
R F Temre
rfcompetition.com



I hope the above information will be useful and important.
(आशा है, उपरोक्त जानकारी उपयोगी एवं महत्वपूर्ण होगी।)
Thank you.
R F Temre
rfcompetiton.com

Watch video for related information
(संबंधित जानकारी के लिए नीचे दिये गए विडियो को देखें।)
Comments

POST YOUR COMMENT

Categories

Subcribe