s
By: RF competition   Copy   Share  (436) 

प्रत्यय क्या है? | कृदन्त और तदिधत प्रत्यय || महत्वपूर्ण प्रत्यय एवं उनके उदाहरण

1886

प्रत्यय

वे शब्द या शब्दांश जो मूल शब्द या धातु के अन्त में लगाये जाते हैं, प्रत्यय कहलाते हैं। उदाहरण के लिए मानवता शब्द में 'ता' प्रत्यय है। इसी प्रकार मिठाईवाला और दूधवाला शब्दों में 'वाला' प्रत्यय है।

प्रत्यय के प्रकार

प्रत्यय दो प्रकार के होते हैं–
1. कृदन्त प्रत्यय
2. तदिधत प्रत्यय।

हिन्दी के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।
संयोग श्रृंगार और वियोग श्रृंगार क्या होते हैं?

कृदन्त प्रत्यय

धातु अथवा क्रिया के मूल रूप के अन्त में लगाये जाने वाले प्रत्यय को कृदन्त प्रत्यय कहा जाता है। इस प्रत्यय के जुड़ने से बनने वाले शब्द को 'कृदन्त' कहा जाता है। कृदन्त प्रत्यय और उसके उदाहरण–
1. पढ़ाई– आई प्रत्यय
2. लिखाई– आई प्रत्यय
3. बहाव– आव प्रत्यय
4. देखा– आ प्रत्यय
5. खेलना– ना प्रत्यय आदि।

तदिधत प्रत्यय

संज्ञा और विशेषण के अन्त में लगाये जाने वाले प्रत्यय को तदिधत प्रत्यय कहा जाता है। इस प्रत्यय के जुड़ने से बने नये शब्द को 'तदिधतान्त' कहा जाता है। तदिधत प्रत्यय और उसके उदाहरण–
1. सब्जीवाला– वाला प्रत्यय
2. लकड़हारा– हारा प्रत्यय
3. थानेदार– दार प्रत्यय
4. अन्नदान– दान प्रत्यय
5. विषैला– एला प्रत्यय आदि।

हिन्दी के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।
1. संख्यावाचक विशेषण | निश्चित और अनिश्चित विशेषण || पूर्णांकबोधक और अपूर्णांकबोधक विशेषण
2. परिमाणवाचक, व्यक्तिवाचक और विभागवाचक विशेषण
3. भाषा क्या है? | भाषा की परिभाषाएँ और विशेषताएँ
4. अलंकार क्या है? | वक्रोक्ति, अतिशयोक्ति और अन्योक्ति अलंकार
5. उपमा, रूपक और उत्प्रेक्षा अलंकार

महत्वपूर्ण प्रत्यय एवं उनके उदाहरण

हिंदी के कुछ महत्वपूर्ण प्रत्यय एवं उनके उदाहरण निम्नलिखित हैं–
1. अई– भटई
2. अक्कड़– भुलक्कड़
3. आई– लिखाई
4. आकू– लड़ाकू
5. आलु– कृपालु
6. आनी– देवरानी
7. आव– उठाव
8. आऊ– कमाऊ
9. अनिय– सम्मानीय
10. आ– सुना
11. आटा– सन्नाटा
12. आड़ी– खिलाड़ी
13. आना– लड़वाना
14. आवट– सजावट
15. आवना– सुहावना
16. ओड़ा– भगोड़ा
17. औती– फिरौती
18. औनी– बिछौनी
19. क– गायक
20. की– चालाकी
21. गर– कारीगर
22. चा– बगीचा
23. ची– नकलची
24. ड़ा– मुखड़ा
25. ड़ी– गाड़ी
26. त– हर्षित
27. ता– वास्तविकता
28. ती– देखती
29. दान– कन्यादान
30. दार– जमींदार
31. न्त– अनन्त
32. एत– पढ़ैत
33. एला– विषैला
34. ऐया– गवैया
35. ऐल– नकैल
36. उ– पेटू
37. ईला– चमकीला
38. एरा– सपेरा
39. ना– लिखना
40. नी– ओढ़नी
41. बाज– चालबाज
42. ला– पिछला
43. वन्त– गुणवन्त
44. हारा– दुःखियारा
45. हट– घबराहट
46. स्तान– हिन्दुस्तान
47. वाँ– पाँचवाँ
48. ऋ– नगरी
49. ऊआ– जगनुआ
50. इयारा– उजियारा
51. इयाना– खिसियाना
52. इल– मंजिल
53. इयाँ– लड़कियाँ
54. इया– नगरिया
55. इयल– अड़ियल
56. आस– अनायास
57. इ– गली।

हिन्दी के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।
1. अर्थ के आधार पर वाक्यों के प्रकार
2. रीतिकाल की विशेषताएँ और धाराएँ | प्रमुख कवि एवं उनकी रचनाएँ
3. भक्तिकाल | सगुण धारा की रामभक्ति और कृष्णभक्ति शाखा || निर्गुण धारा की ज्ञानाश्रयी और प्रेमाश्रयी शाखा
4. आदिकाल की विशेषताएँ | प्रमुख कवि एवं उनकी रचनाएँ

हिन्दी के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।
1. पूर्ण विराम का प्रयोग कहाँ होता है || निर्देशक एवं अवतरण चिह्न के उपयोग
2. शब्द शक्ति- अभिधा शब्द शक्ति, लक्षणा शब्द शक्ति एवं व्यंजना शब्द शक्ति
3. रस क्या है? || रस के स्थायी भाव || शान्त एवं वात्सल्य रस
4. रस के चार अवयव (अंग) – स्थायीभाव, संचारी भाव, विभाव और अनुभाव
5. छंद में मात्राओं की गणना कैसे करते हैं?



I hope the above information will be useful and important.
(आशा है, उपरोक्त जानकारी उपयोगी एवं महत्वपूर्ण होगी।)
Thank you.
R F Temre
rfcompetiton.com

Comments

POST YOUR COMMENT

Categories

Subcribe