s
By: RF competition   Copy   Share  (291) 

संज्ञा क्या है? | संज्ञा के प्रकार– व्यक्तिवाचक, जातिवाचक, द्रव्यवाचक, समूहवाचक, भाववाचक

1797

संज्ञा

वे विकारी शब्द जिनसे किसी विशेष वस्तु, व्यक्ति, स्थान या भाव के नाम का बोध हो, संज्ञा कहलाते हैं।
संज्ञा की प्रमुख विशेषताएँ निम्नलिखित हैं–
1. किसी वस्तु के नाम को संज्ञा कहा जाता है।
2. पदार्थ के नाम को संज्ञा कहा जाता है।
3. स्थान के नाम को संज्ञा कहा जाता है।
4. व्यक्ति के भाव के नाम को भी संज्ञा कहा जाता है।

हिन्दी के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।
रसों का वर्णन - वीर, भयानक, अद्भुत, शांत, करुण

संज्ञा के प्रकार

हिन्दी व्याकरण में संज्ञा के मुख्य रूप से पाँच प्रकार हैं–
1. व्यक्तिवाचक संज्ञा
2. जातिवाचक संज्ञा
3. द्रव्यवाचक संज्ञा
4. समूहवाचक संज्ञा
5. भाववाचक संज्ञा।

हिन्दी के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।
अलंकार – ब्याज-स्तुति, ब्याज-निन्दा, विशेषोक्ति, पुनरुक्ति प्रकाश, मानवीकरण, यमक, श्लेष

व्यक्तिवाचक संज्ञा

वह शब्द जिससे किसी वस्तु या व्यक्ति का बोध हो, उसे व्यक्तिवाचक संज्ञा कहा जाता है।
उदाहरण– नीलम, यमुना, मुम्बई, अमेरिका, रामायण, मोहन, गोदावरी, लखनऊ आदि।
व्यक्तिवाचक संज्ञा निम्नलिखित परिस्थितियों में हो सकती है–
1. व्यक्तियों के नाम– राम, कोमल, आयुषी आदि।
2. देशों के नाम– भारत, अमेरिका, नेपाल आदि।
3. राष्ट्रीय जातियों के नाम– भारतीय, अमेरिकी, जापानी, नेपाली आदि।
4. दिशाओं के नाम– पूर्व, पश्चिम, उत्तर, दक्षिण।
5. नदियों के नाम– गंगा, यमुना, गोदावरी, कृष्णा, कावेरी, ब्रह्मापुत्र आदि।
6. समुद्रों के नाम– हिन्द महासागर, प्रशान्त महासागर, लाल सागर, काला सागर, भूमध्य सागर, आर्कटिक महासागर, अटलान्टिक महासागर आदि।
7. नगरों के नाम– मुम्बई, पुणे, वाराणसी, अहमदाबाद, चण्डीगढ़ आदि।
8. पर्वतों के नाम– हिमालय, विंध्याचल आदि।
9. पुस्तकों और समाचार पत्रों के नाम– दैनिक भास्कर, रामचरितमानस, जनसत्ता आदि।
10. दिनों और महीनों के नाम– सोमवार, मंगलवार, बुधवार, जनवरी, फरवरी, मार्च आदि।
11. त्योहारों के नाम– दीपावली, रक्षाबंधन आदि।
12. ऐतिहासिक घटनाओं के नाम– 1857 ई. की क्रान्ति, पानीपत का प्रथम युद्ध आदि।

हिन्दी के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।
काव्य गुण - ओज-गुण, प्रसाद-गुण, माधुर्य-गुण

जातिवाचक संज्ञा

वे शब्द जिनसे किसी जाति के सम्पूर्ण पदार्थों और उनके समूहों का बोध होता है, जातिवाचक संज्ञा कहलाती है।
उदाहरण– मनुष्य, लड़की, नदी, पर्वत, सभा, शिक्षक, चिकित्सक, अधिकारी आदि।
जातिवाचक संज्ञा निम्नलिखित परिस्थितियों में हो सकती हैं–
1. पशु-पक्षियों के नाम– गाय, बकरी, गधा, कबूतर आदि।
2. वस्तुओं के नाम– घर, पुस्तक, टेबिल आदि।
3. सम्बन्धियों, व्यवसायों, पदों व कार्यों के नाम– शिक्षक, चिकित्सक, अधिकारी, दर्जी, जुलाहा, भाई आदि।
4. प्राकृतिक तत्वों के नाम– आँधी, तूफान, भूकम्प, ज्वालामुखी, बाढ़ आदि।

हिन्दी के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।
छंद किसे कहते हैं? || मात्रिक - छप्पय एवं वार्णिक छंद - कवित्त, सवैया

द्रव्यवाचक संज्ञा

वे संज्ञा शब्द जिनसे माप-तौल वाली वस्तु का बोध हो, द्रव्यवाचक संज्ञा कहलाती है।
उदाहरण– पानी, दूध, तेल, मिट्टी का तेल, अम्ल, लोहा, सोना, चाँदी, पीतल, कांसा आदि।

हिन्दी के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।
मध्यप्रदेश की प्रमुख बोलियाँ एवं साहित्य- पत्र-पत्रिकाएँ

समूहवाचक संज्ञा

वे संज्ञा शब्द जिनसे किसी वस्तु या व्यक्ति के समूह का बोध होता है, समूहवाचक संज्ञा कहलाती है।
उदाहरण– गुच्छा, दल, गिरोह, सभा आदि।

हिन्दी के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।
भाव-विस्तार (भाव-पल्लवन) क्या है और कैसे किया जाता है?

भाववाचक संज्ञा

वे संज्ञा शब्द जिनसे किसी व्यक्ति या वस्तु के गुण, दशा, धर्म, व्यापार आदि का बोध होता हो, भाववाचक संज्ञा कहलाती है।
उदाहरण– लंबाई, बचपन, बुद्धिमान, ठण्डा, गर्म, नम्रता, सुंदरता आदि।

हिन्दी के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।
वाच्य के भेद - कर्तृवाच्य, कर्मवाच्य, भाववाच्य



I hope the above information will be useful and important.
(आशा है, उपरोक्त जानकारी उपयोगी एवं महत्वपूर्ण होगी।)
Thank you.
R F Temre
rfcompetiton.com

Comments

POST YOUR COMMENT

Categories

Subcribe