s
By: RF competition   Copy   Share  (27) 

मौर्य कालीन कला - स्थापत्य कला | Mauryan Art - Architecture

3813

श्रमण परंपरा के अंग बौद्ध धर्म एवं जैन धर्म के आगमन के साथ ही गंगा नदी घाटी के सामाजिक एवं धार्मिक परिदृश्य में परिवर्तन होने लगा। चूँकि दोनों ही धर्म वैदिक युग से चली आ रही 'वर्ण प्रथा' और 'जाति प्रथा' का विरोध करते थे। इसलिए इन्हें क्षत्रिय राजाओं का राजकीय संरक्षण प्राप्त हुआ जो ब्राह्मणवादी वर्चस्व से सजग हो चुके थे। मौर्य साम्राज्य स्थापित होने के साथ ही राज्य का संरक्षण प्राप्त कला एवं व्यक्तिगत कला की स्थापत्य कला एवं मूर्तिकला में स्पष्ट सीमांकन देखा गया। इस प्रकार तत्कालीन समय की कला एवं स्थापत्य कला को दो भागों में वर्गीकृत किया जा सकता है-

With the advent of Buddhism and Jainism, part of the Shramana tradition, the social and religious landscape of the Ganges river valley has changed. Since both the religions were opposed to the 'Varna system' and 'Caste system' coming from the Vedic era. Therefore, they got the royal patronage of the Kshatriya kings who had become aware of the Brahminical supremacy. With the establishment of the Maurya Empire, a clear demarcation was seen in the architecture and sculpture of the state patronized art and individual art. Thus the art and architecture of that time can be classified into two parts-

"भारतीय कला एवं संस्कृति" के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें।
1. भारत की वास्तुकला, मूर्तिकला एवं मृद्भाण्ड
2. हड़प्पा सभ्यता के स्थल एवं उनसे प्राप्त वास्तुकला एवं मूर्तिकला के उदाहरण
3. हड़प्पा सभ्यता की वास्तुकला
4. हड़प्पा सभ्यता की मोहरें
5. हड़प्पा सभ्यता की मूर्ति कला
6. हड़प्पा सभ्यता से प्राप्त मृद्भाण्ड एवं आभूषण

1. दरबारी कला (दरबारी पहल)- इसके अंतर्गत मौर्य साम्राज्य के महल, स्तंभ और स्तूप सम्मिलित हैं।

1. Darbari Art (Court Initiative)- It includes Palaces, Pillars and Stupas of the Maurya Empire.

2. लोकप्रिय कला (व्यक्तिगत पहल)- इसके अंतर्गत मौर्य काल की गुफाएँ, मूर्तियाँ एवं मृद्भाण्ड सम्मिलित हैं।

2. Popular Art (Individual Initiative)- Includes caves, statues and pottery from Mauryan period.

इन 👇एतिहासिक महत्वपूर्ण प्रकरणों को भी पढ़ें।
1. मौर्य साम्राज्य प्राचीन भारत का गौरवशाली इतिहास
2. पाटलिपुत्र (मगध साम्राज्य) पर शुंग वंश का शासन
3. भारत का प्राचीन इतिहास - कण्व वंश
4. प्राचीन भारत का आन्ध्र सातवाहन वंश
5. भारत में हिन्द-यवन वंश का शासन

आशा है, उपरोक्त जानकारी परीक्षार्थियों / विद्यार्थियों के लिए ज्ञानवर्धक एवं परीक्षापयोगी होगी।
धन्यवाद।
R F Temre
rfcompetition.com



I hope the above information will be useful and important.
(आशा है, उपरोक्त जानकारी उपयोगी एवं महत्वपूर्ण होगी।)
Thank you.
R F Temre
rfcompetiton.com

Comments

POST YOUR COMMENT

Categories

Subcribe