s
By: RF competition   Copy   Share  (224) 

1857 ई. के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के कारण | Reasons For The First Freedom Struggle Of 1857 AD

6268

1857 ईस्वी में भारतीय सैनिकों एवं अन्य भारतीयों द्वारा अंग्रेजी शासन के विरुद्ध एक सशस्त्र विद्रोह किया गया। इस विद्रोह ने संग्राम का रूप ले लिया। भारतीय इतिहास में इस संग्राम को 'प्रथम स्वतंत्रता संग्राम' के नाम से जाना जाता है। इस संग्राम ने ब्रिटिश शासन की नींव को हिला कर रख दिया। इस संग्राम (विद्रोह) के प्रमुख कारण निम्नलिखित थे–
1. विलय नीति (राजनीतिक कारण)
2. भारतीय परंपराओं में परिवर्तन (सामाजिक कारण)
3. अंग्रेजों की आर्थिक नीतियाँ (आर्थिक कारण)
4. सैनिकों में असंतोष (सैनिक कारण)
5. भारतीय सैनिकों की धार्मिक भावनाओं का अपमान (तात्कालिक कारण)।

In 1857 AD there was an armed revolt by Indian soldiers and other Indians against the British rule. This rebellion took the form of a struggle. In Indian history, this struggle is known as 'First War of Independence'. This struggle shook the foundation of British rule. Following were the main reasons for this struggle (rebellion)–
1. Merger Policy (Political Reasons)
2. Changes in Indian Traditions (Social Causes)
3. Economic Policies of the British (Economic Reasons)
4. Discontent among soldiers (Soldier cause)
5. Insult to the religious sentiments of Indian soldiers (immediate reason).

सामान्य ज्ञान के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें। (Also read these 👇 episodes of General Knowledge.)
आर्यभट्ट की उपलब्धियाँ एवं जीवन परिचय | Aryabhatta's Achievements And Biography

विलय नीति (राजनीतिक कारण) [Merger Policy (Political Reasons)]

लॉर्ड डलहौजी की उग्र साम्राज्यवादी नीति और विलय नीति के अंतर्गत भारतवर्ष के छोटे-छोटे राज्यों को ब्रिटिश शासन में मिला लिया गया। इस कारण भारत के राज परिवारों में घोर असंतोष उत्पन्न हो गया। फलस्वरूप छोटे-छोटे राज्यों के शासकों एवं राज परिवारों के लोगों ने प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में अपना योगदान दिया। इस संग्राम के अधिकांश राजनीतिक कारणों के लिए लॉर्ड डलहौजी ही उत्तरदायी था।

Under Lord Dalhousie's radical imperialist policy and merger policy, small states of India were merged under British rule. Due to this great discontent arose among the royal families of India. As a result, the rulers of small states and people of royal families contributed in the first freedom struggle. Lord Dalhousie was responsible for most of the political causes of this struggle.

सामान्य ज्ञान के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें। (Also read these 👇 episodes of General Knowledge.)
ग्लोबल वार्मिंग क्या है? | What Is Global Warming?

भारतीय परंपराओं में परिवर्तन (सामाजिक कारण) [Changes In Indian Traditions (Social Causes)]

अंग्रेजों ने भारत की सती प्रथा पर प्रतिबंध लगा दिया था। इसके अलावा वे भारतीय लोगों को धर्म परिवर्तन के लिए प्रोत्साहित किया करते थे। उन्होंने भारत के परंपरागत उत्तराधिकार के नियमों में संशोधन भी कर दिया था। इन सभी सामाजिक कारणों की वजह से भारतीयों की सामाजिक और धार्मिक भावनाओं को बहुत ठेस पहुँची। फलस्वरुप अंग्रेजों की इन नीतियों से दुःखी भारतीयों ने प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में अपना योगदान दिया।

British had banned the practice of Sati in India. Apart from this, he used to encourage the Indian people to convert to religion. He also amended the rules of traditional succession of India. Due to all these social reasons, the social and religious sentiments of Indians got hurt a lot. As a result, Indians unhappy with these policies of the British contributed in the first freedom struggle.

सामान्य ज्ञान के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें। (Also read these 👇 episodes of General Knowledge.)
अशोक का धम्म (धर्म) क्या था? | What Was Ashoka's Dhamma (Religion)?

अंग्रेजों की आर्थिक नीतियाँ (आर्थिक कारण) [Economic Policies Of The British (Economic Reasons)]

अंग्रेजों की आर्थिक नीतियों के कारण भारतीय किसानों को बहुत नुकसान होता था। शिल्पकार और दस्तकार बेरोजगार हो गए थे। व्यापारियों के व्यापार नष्ट हो गए थे और जमींदारियाँ समाप्त कर दी गई थीं। भारत में निर्मित वस्तुओं को बाहर नहीं जाने दिया जाता था। इन सभी आर्थिक कारणों की वजह से भारतीय किसानों, शिल्पकारों, दस्तकारों, व्यापारियों आदि के मन में अंग्रेजी शासन के विरुद्ध व्यापक आर्थिक असंतोष उत्पन्न हो गया। 1857 ई. के विद्रोह में सामाजिक कारणों के समान ही आर्थिक कारणों ने भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। अंग्रेजों की आर्थिक नीतियों से नाखुश भारतीयों ने प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में अपना योगदान दिया।

Indian farmers suffered a lot due to the economic policies of the British. Craftsmen and artisans had become unemployed. Merchants' trades were destroyed and zamindaris were abolished. Goods manufactured in India were not allowed to go out. Due to all these economic reasons, there was widespread economic discontent against the British rule in the minds of Indian farmers, craftsmen, artisans, traders etc. In the revolt of 1857 AD, economic reasons also played an important role in the same way as social causes. Indians unhappy with the economic policies of the British contributed to the first freedom struggle.

सामान्य ज्ञान के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें। (Also read these 👇 episodes of General Knowledge.)
विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यू.एच.ओ.) | World Health Organization (WHO)

सैनिकों में असंतोष (सैनिक कारण) [Discontent Among Doldiers (Military Cause)]

कंपनी के सैनिकों में भारतीय सैनिकों की संख्या 2,35,000 थी। इसके अलावा ब्रिटिश सैनिकों की संख्या केवल 35,000 थी। अतः स्पष्ट है कि भारतीय सैनिक ब्रिटिश साम्राज्य के आधार स्तंभ थे। भारतीय सैनिकों की महत्वपूर्ण भूमिका होते हुए भी उन्हें अंग्रेजी सैनिकों की तुलना में कम वेतन दिया जाता था। अंग्रेजी अधिकारी भारतीय सैनिकों के साथ बहुत बुरा व्यवहार करते थे। इन सभी कारणों से भारतीय सैनिकों के मन में अंग्रेजी शासन के विरुद्ध असंतोष उत्पन्न हो गया। फलस्वरुप उन्होंने विद्रोह कर दिया।

The number of Indian soldiers in the company's troops was 2,35,000. Apart from this, the number of British soldiers was only 35,000. So it is clear that Indian soldiers were the pillars of the British Empire. Despite the important role of Indian soldiers, they were paid less than the English soldiers. The British officers used to treat Indian soldiers very badly. Due to all these reasons, dissatisfaction arose against the British rule in the minds of the Indian soldiers. As a result they revolted.

सामान्य ज्ञान के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें। (Also read these 👇 episodes of General Knowledge.)
पौधे और राइज़ बैक्टीरिया | Plants And Rihz Bacteria

भारतीय सैनिकों की धार्मिक भावनाओं का अपमान (तात्कालिक कारण) [Insult To The Religious Sentiments Of Indian Soldiers (Immediate Reason)]

अंग्रेजी सरकार ने 'एनफील्ड रायफल' नामक एकनली बंदूक का उपयोग प्रारंभ करवाया था। इस बंदूक के कारतूसों में सूअर तथा गाय की चर्बी होती थी। भारतीय सैनिक इस बंदूक का उपयोग नहीं करना चाहते थे। अंग्रेजी शासक भारतीय सैनिकों की इच्छा के विरुद्ध उनसे इन बंदूकों का प्रयोग करवाते थे। इससे भारतीय सैनिकों की धार्मिक भावनाओं को बहुत ठेस पहुँची। फलस्वरुप उन्होंने अंग्रेजी शासन के विरुद्ध सशस्त्र विद्रोह कर दिया।

The British government started the use of a single gun named 'Enfield rifle'. The cartridges of this gun contained the fat of pigs and cows. Indian soldiers did not want to use this gun. The British rulers used to get the Indian soldiers to use these guns against the wishes of them. This hurt the religious sentiments of Indian soldiers a lot. As a result, he organized an armed rebellion against the British rule.

सामान्य ज्ञान के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें। (Also read these 👇 episodes of General Knowledge.)
सम्राट हर्षवर्धन एवं उनका शासनकाल | Emperor Harshavardhana And His Reign

आशा है, उपरोक्त जानकारी आपके लिए उपयोगी होगी।
धन्यवाद।
R F Temre
rfcompetition.com



I hope the above information will be useful and important.
(आशा है, उपरोक्त जानकारी उपयोगी एवं महत्वपूर्ण होगी।)
Thank you.
R F Temre
rfcompetiton.com

Comments

POST YOUR COMMENT

Categories

Subcribe