s
By: RF competition   Copy   Share  (17) 

हड़प्पा सभ्यता की वास्तुकला | Architecture of Harappan Civilization

3975

हड़प्पा सभ्यता के स्थल नगर नियोजन की उल्लेखनीय समझ प्रगट करते हैं। सिंधु सभ्यता के नगर आयताकार ग्रिड पैटर्न पर आधारित थे। यहाँ की सड़कें एक-दूसरे को समकोण पर काँटती हैं।

The sites of the Harappan civilization reveal a remarkable understanding of town planning. The cities of the Indus Civilization were based on a rectangular grid pattern. The roads here cross each other at right angles.

"भारतीय कला एवं संस्कृति" के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़ें।
1. भारत की वास्तुकला, मूर्तिकला एवं मृद्भाण्ड
2. हड़प्पा सभ्यता के स्थल एवं उनसे प्राप्त वास्तुकला एवं मूर्तिकला के उदाहरण

सभ्यता के स्थलों के उत्खनन से तीन प्रकार के नगर प्राप्त हुए हैं- आवास गृह, सार्वजनिक भवन, सार्वजनिक स्नानागार। तत्कालीन समय में आवास निर्माण के लिए मानकीकृत आयामों की अलंकृत ईटों का प्रयोग किया जाता था। ईटों को एक सुनियोजित कतार में लगाकर जिप्सम के गारे का प्रयोग कर जोड़ा जाता था और भवन निर्माण किया जाता था।

Three types of cities have been found from the excavation of the sites of civilization- housing houses, public buildings, public baths. In those times, ornate bricks of standardized dimensions were used for housing construction. Bricks were put together in a well-planned row using gypsum mortar and the building was constructed.

इन 👇एतिहासिक महत्वपूर्ण प्रकरणों को भी पढ़ें।
1. विश्व की प्रथम चार सभ्यताएँ- मेसोपोटामिया, मिस्र, सिंधु, और चीनी सभ्यता
2. भारत का इतिहास- प्राचीन भारतीय इतिहास के अध्ययन के पुरातात्विक स्रोत।
3. भारत का इतिहास- प्राचीन भारतीय इतिहास जानने के साहित्यिक स्त्रोत- वेद
4. भारत का इतिहास- सिंधु सभ्यता के प्रमुख स्थल
5. सिन्धु सभ्यता में जीवन

हड़प्पा सभ्यता के नगरों को दो भागों में वर्गीकृत किया जा सकता है- गढ़ (दुर्ग) और निचला नगर। पश्चिमी भाग में स्थित गढ़ ऊँचाई पर स्थित हैं। यहाँ पर विस्तृत आयामों वाले भवनों जैसे अन्नागार, स्तंभों वाला हॉल, प्रशासनिक भवन, सार्वजनिक भवन, और आँगन का निर्माण किया गया है। यह स्थान शायद शासक वर्ग एवं अभिजात वर्ग के लोगों के लिए बनाए गए होंगे। किंतु ये निवास मिस्र एवं मेसोपोटामिया सभ्यता के शासकों के निवास महल एवं मंदिर जैसे विस्तृत नहीं हैं। अन्नागारों में बुद्धिमत्ता के साथ वायु जाने का स्थान का निर्माण और उचित प्रबंधन किया गया है। इसके अंतर्गत कीटों से सुरक्षा और भंडारण की पर्याप्त व्यवस्था की गई है। तत्कालीन समय में विशाल एवं सार्वजनिक स्नानागारों का प्रयोग किया जाता था। ये स्नानागार सभ्यता में कर्मकांडीय महत्व को प्रदर्शित करते हैं। इनके चारों ओर कक्षों और दीर्घाओं का निर्माण किया गया था। मोहनजोदड़ो से प्राप्त विशाल स्नानागार इसका ज्वलंत उदाहरण है।

The cities of the Harappan Civilization can be classified into two parts- Citadel and Lower Town. The citadels located in the western part are situated at higher altitudes. Here buildings of wide dimensions such as granaries, pillared halls, administrative buildings, public buildings, and courtyards have been constructed. These places may have been built for the people of the ruling class and aristocracy. But these residences are not as elaborate as the palaces and temples of the rulers of Egyptian and Mesopotamian civilizations. The air passages in the granaries have been intelligently constructed and properly managed. Under this, adequate arrangements have been made for protection and storage from pests. In those days large and public baths were used. These baths represent ritualistic importance in the civilization. Around these chambers and galleries were built. The Great Bathroom found from Mohenjodaro is a vivid example of this.

इन 👇एतिहासिक महत्वपूर्ण प्रकरणों को भी पढ़ें।
1. वैदिक सभ्यता- ऋग्वैदिक काल
2. मध्यप्रदेश का प्राचीन इतिहास
3. भारत का इतिहास- बुद्ध के समय के प्रमुख गणराज्य (गणतंत्र)
4. भारत का प्राचीन इतिहास-;जनपद एवं महाजनपद
5. भारत का प्राचीन इतिहास-;जनपद एवं महाजनपद

निचले नगरों में छोटे भवन पाए गए हैं। संभवतः यहाँ पर श्रमिक वर्ग के लोग निवास करते होगें। कई भवनों में सीढ़ियाँ भी प्राप्त हुई हैं। इससे स्पष्ट है कि ये भवन दो मंजिला भवन थे। सभी घरों में कुँए थे। इसके अतिरिक्त स्नानागार भी थे। वायु संचार की उचित व्यवस्था की गई थी।

Small buildings have been found in the lower towns. Probably working class people would have resided here. Stairs have also been found in many buildings. It is clear from this that these buildings were two storey buildings. All the houses had wells. In addition there were bathrooms. Proper arrangement for air communication was made.

सिंधु सभ्यता में साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया गया है। सभी घरों से छोटी-छोटी नालियाँ निकलकर मुख्य सड़क की बड़ी नाली से मिलती हैं। इस मुख्य नाली को शिथिल रूप से ढका जाता था। ताकि नियमित साफ-सफाई की जा सके। निवास से थोड़ी दूरी पर मलकुंड स्थित है। व्यक्तिगत एवं सार्वजनिक स्वच्छता पर बल दिया गया है। कुछ स्थानों पर कुँए भी प्राप्त हुए। सभ्यता की प्रमुख विशेषता यहाँ की जल निकास प्रणाली है। कुछ विद्वानों का मत है कि टिगरिस-यूफ्रेटस (दजला-फरात) नदियों के तट पर विकसित मेसोपोटामिया सभ्यता के लोग सिंधु सभ्यता को 'मेलुहा' कहते थे। मेसोपोटामिया से सिंधु सभ्यता की कुछ मोहरें प्राप्त हुई हैं।

Cleanliness has been given special attention in the Indus Civilization. Small drains come out from all the houses and meet the big drain on the main road. This main drain was loosely covered. For regular cleaning. Malkund is situated at a short distance from the residence. Emphasis is placed on personal and public hygiene. Wells were also found at some places. The main feature of the civilization is its drainage system. Some scholars are of the opinion that Tigris-Euphratus (Tigris-Euphratus) developed on the banks of rivers Mesopotamian civilization people called Indus civilization as 'Meluha'. Used to say Some seals of Indus Civilization have been received from Mesopotamia.

इन 👇एतिहासिक महत्वपूर्ण प्रकरणों को भी पढ़ें।
1. सिकंदर का भारत पर आक्रमण- इसके कारण एवं प्रभाव
2. जैन धर्म के 24 तीर्थंकर एवं महावीर स्वामी की पारिवारिक जानकारी
3. बौद्ध धर्म एवं बुद्ध का जीवन परिचय
4. मगध साम्राज्य का इतिहास | The Magadh Empire time period

आशा है यह लेख विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिता परीक्षाओं की दृष्टि से महत्वपूर्ण एवं उपयोगी होगा।
धन्यवाद
rfcompetition.com



I hope the above information will be useful and important.
(आशा है, उपरोक्त जानकारी उपयोगी एवं महत्वपूर्ण होगी।)
Thank you.
R F Temre
rfcompetiton.com

Comments

POST YOUR COMMENT

Categories

Subcribe